नमस्कार,

कोटि देवी देवता में आपका स्वागत है

यहां आपको हिंदू देवी-देवता के बारे में सारी जानकारी मिल जाएगी

कोटि देवी देवता स्पेशल – संग्राहलय

Radhe Krishna 099

कृष्णा जी

Jay Bajrang Bali 20

हनुमान जी

श्री गणेश महिम्न स्तोत्रम्

गणेश जी

जटायुकृत श्री राम स्तोत्र

राम जी

इन्द्रकृतं लक्ष्मीस्तोत्रं

महालक्ष्मी जी

शिव अपराध क्षमापन स्तोत्र

शिव जी

आपदुन्मूलन दुर्गा स्तोत्रम्

माँ दुर्गा जी

सरस्वती स्तोत्रम्

सरस्वती जी

श्री अन्नपूर्णा स्तोत्र

अन्नपूर्णा देवी जी

जन्म कुंडली

अपनी जन्म कुंडली बनाइए

क्या आप अपने ग्रहों के दिशा से परेशान हैं? जन्म कुंडली से आप जान सकते हैं कि आपकी कुंडली मैं कौनसे ग्रहों की दशा महादशा और उसके उपाय।

PDF कुंडली सीधे मोबाइल पर

व्हाट्सएप या मेल के माध्यम से अपनी कुंडली को सीधे अपने मोबाइल पर प्राप्त करें

नि:शुल्क रत्न परामर्श

सीमित समय के लिए हम नि: शुल्क रत्न परामर्श प्रदान कर रहे हैं – इसका आज ही लाभ उठाएं

+25000 संतुष्ट लोग

हमने 25000+ कुंडली प्रदान की है और हमारे सभी ग्राहक बहुत खुश हैं

यदि आपके पास आपकी कुंडली के बारे में कोई प्रशन हैं, तो हमसे संपर्क करें

Kundli at Koti Devi Devta

कुंडली क्या है ?

कुंडली एक ज्योतिषीय चार्ट है, जिसकी गणना मूल जन्म के विशिष्ट समय में ब्रह्मांड में ग्रह संरेखण के अनुसार की जाती है। वैदिक ज्योतिष के सिद्धांतों के आधार पर, जनमा कुंडली या कुंडली वैदिक ज्योतिषियों द्वारा किसी व्यक्ति द्वारा प्रदान किए गए जन्म विवरण के माध्यम से तैयार की गई भविष्य की एक मिसाल है। जनम कुंडली का उद्देश्य भविष्य को पूर्व निर्धारित करना है ताकि किसी को आसन्न दिनों में आने के बारे में चिंता करने की आवश्यकता न हो। वैदिक ज्योतिष में 12 राशियाँ शामिल हैं, जिन्हें जन्म कुंडली के 12 घरों में रखा गया है, इस प्रकार पूर्ण जनम कुंडली बनती है। घर में मौजूद प्रत्येक घर और ग्रह हमारे जीवन के विभिन्न पहलुओं के महत्त्व हैं- इस प्रकार उस पाठ्यक्रम या मार्ग का निर्धारण करते हैं जिसे कोई भी व्यक्ति जीवन में अपनाएगा।

कुंडल के माध्यम से आप पर विभिन्न ग्रहों की स्थिति के प्रभाव को समझें।

समझें कि अपने जीवन को दोष अवधि के दौरान संतुलित कैसे करें।

कुंडल के माध्यम से अपने भाग्यशाली रत्न के बारे में जानें

कुंडल के माध्यम से अपने मूल, भाग्य, नाम, शुभ और अशुभ अंक को समझें।

अपने दोष अनुसार – दोष की अवधि के दौरान कैसे मंत्र का जप करें।

कुंडल के माध्यम से अपने वर्ष के दौरान अनुकूल और प्रतिकूल अवधि जानें

कोटि देवी देवता स्पेशल – संग्राहलय

2

नामावली

3

मंत्र संग्रह

4

कवच संग्रह

9

चालीसा संग्रह

5

अष्टकम संग्रह

6

स्तोत्रम संग्रह

1

आरती संग्रह

7

भजन संग्रह

8

फ़ोटो

रुद्राक्ष

125000 Rudraksha Shivling1

स्थान: कल्याणेश्वर मंदिर, महल, नागपुर, महाराष्ट्र, भारत – 440002.

फोटो मुख्य: ज्ञानचंद जानकीलाल बुंदिवाल – जेमोलॉजिस्ट, ज्योतिष

01

2012 से हमने लगभग 3 लाख 5 मुखी रुद्राक्ष नि: शुल्क वितरित किए हैं

02

वर्ष 2014 में हमने 1.25 लाख रुद्राक्ष का शिवलिंग बनाया और भक्तों को नि: शुल्क वितरित किया

03

1 से 14 मुखी रुद्राक्ष बाजार से आधी दर पर उपलब्ध है। रुद्राक्ष की फोटो और वीडियो देखने के बाद ही इसे खरीदें। सभी रुद्राक्ष सर्टिफाइड है

हमारे बारे में लोग क्या कहते हैं

अवंतिका वर्मा

“मुझे नीलम का सुझाव देने के लिए धन्यवाद, सुझाए गए पत्थर को पहनने के बाद मेरा काम अच्छा चल रहा है”

दामोदर पाली

“बेहद संतुष्ट। गुरुजी ने मेरी कुंडली में महत्वपूर्ण दशा की सही पहचान की और मुझे रत्न पहनने का सुझाव दिया। धन्यवाद गुरुजी.”

सनी सिंह

“गुरुजी ने मेरी कुंडली का विश्लेषण किया और मुझे अपने बुरे समय के लिए रत्न का सुझाव दिया। धन्यवाद गुरुजी”

क्या आप एक अच्छे लेखक हैं?

हमारे पृष्ठ से संबंधित विषयों पर अपना लेख भेजें और हम आपके लेख को हमारी साइट पर प्रकाशित करेंगे

नए अपडेट पाने के लिए अपनी डिटेल्स शेयर करे

नैचरॅल सर्टिफाइड रुद्राक्ष कॉम्बो ऑफर

3, 4, 5, 6 और 7 मुखी केवल ₹800