बद्रीनाथ जी की जय

इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें

श्री बद्रीनाथ जी की जय,श्री बद्रीनाथ जी की जय,श्री बद्रीनाथ जी की जय,
पवन मन्द सुगंधशीतल हेम मंदिर शोभितम निकट गंगा बहत निर्मल श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम शेष सुमिरन करत निशिदिन धरतध्यान महेश्वरम श्री वेद ब्रह्मा करद स्तुति श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम शक्ति गौरी गणेश शारद नारद मुनि उच्चारणम योग ध्यान अपार लीला श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम इन्द्र, चन्द्र कुबेर, धुनिकर, धूपदीप प्रकाशितम सिद्ध मुनिजन करत जै-जै श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम यक्ष किन्नर करत कौतुक ज्ञान गन्धर्व प्रकाशितम कैलाश में एक देव निरंजन शैल शिखर महेश्वरम राजा युधिष्ठर करत स्तुति श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम श्री बद्रीजी के पंचरत्न पढ़त पाप विनाशनम कौटि तीर्थ भवेत पुण्य प्राप्येत फलदायकम।

इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें
Gyanchand Bundiwal
Gyanchand Bundiwal

Gemologist, Astrologer. Owner at Gems For Everyone and Koti Devi Devta.

Articles: 472