शनि ग्रह के मंत्र एवं उपाय

इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें

ग्रह देव शनि की आराधना उनकी पूजा से जीवन में आ रही सर्वाधिक कठिनाइयों का नाश होता है। कार्य में सफलता, धीरज, प्रफुल्लता, विदेशी भाषाओं का ज्ञान, न्याय प्रियता, अनुसन्धान, पि.एच,डी, लोहे अथवा चमड़े से संबंधित कारोबार, चिकित्सा-डॉक्टर, इंजिनयरिंग, वाहन-ट्रांसपोर्ट आदि के कारोबार में सफलता शनि के आशीर्वाद स्वरूप ही प्राप्त होती है। क्यों की ज्योतिष शास्त्र में शनि को कर्म का कारक कहा गया है यह न्याय और धर्म के भी प्रवर्तक हैं। अतः कुंडली में इनकी शुभता परम आवश्यक है। अपने जीवन में अपने कारोबार में कौन सफल नहीं होना चाहता आज हर किसी का स्वप्न होता है कि वह अपनी नौकरी अथवा कारोबार को उसकी उचाईया पर लेकर जाए।

शनि कुंडली में शुभ और बलवान हों तभी उपरोक्त सभी फल जातक को मिलता है। अगर कुंडली में शनि अशुभ अथवा पीड़ित हों तो यह सभी फल प्राप्त करने में बहुत कठिनाई होती है। ऐसे में शनि की कृपा प्राप्ति जातक के लिए बहुत आवश्यक हो जाती है। अगर शनि की साढ़ेसाती अथवा ढईया चल रही हो तो जीवन बहुत संघर्षमय हो जाता है।

अपनी जन्म कुंडली से जाने आपके 15 वर्ष का वर्षफल, ज्योतिष्य रत्न परामर्श, ग्रह दोष और उपाय, लग्न की संपूर्ण जानकारी, लाल किताब कुंडली के उपाय, और अन्य जानकारी, अपनी जन्म कुंडली बनाने के लिए यहां क्लिक करें।

जानिये:
शनि देव की प्रसन्नता हेतु कौन से मंत्र का जप-पूजा करें?
शनि देव की प्रसन्नता हेतु कौन से दान करें?
कुंडली में शनि की शुभ-अशुभ स्थिति में कौन से उपाय करें जिनसे उनके शुभ फल प्राप्त कर सकते है?

निचे दिए गए किसी भी मंत्र द्वारा शनि ग्रह का शुभ फल प्राप्त किया जा सकता है, इनमें से एक अथवा कई उपाय एक साथ किए जा सकते है यह अपनी श्रद्धा पर निर्भर करता है। यह सभी आजमाए हुए फलित उपाय है।

शनि ग्रह के संपूर्ण मंत्र एवं अचूक उपाय

शनि ग्रह का पौराणिक मंत्र

ॐ नीलाञ्जन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम्।
छायामार्तण्ड संभूतं तं नमामि शनैश्चरम्।।

शनि ग्रह का गायत्री मंत्र

ॐ सूर्य पुत्राय विद्महे मृत्यु रुपाय धीमहि तन्नो सौरिः प्रचोदयात्।।

शनि ग्रह के वैदिक मंत्र

ॐ शं नो देवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये।
शं योरभिस्रवन्तु नः,   ॐ शनैश्चराय नमः।।

शनि ग्रह का बीज मंत्र

ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः
जप संख्या: 23000
समय: संध्या काल, शुक्ल पक्ष, शनि की होरा।

शनि ग्रह का तांत्रिक मंत्र

ॐ शं शनैश्चराय नमः

शनि ग्रह पूजा मंत्र

ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चराय नमः
यह मंत्र बोलते हुए शनि यंत्र का पूजन करें।

शनि ग्रह का दान

शनि काले रंग कारक होता है। इनका दिन है शनिवार। इन्हें दान में काला वस्त्र, नीलम, काली गाय, जूते, दवाइयां, काली भैंस, सरसों का तेल, नारियल, निले फूल, काले उड़द की दाल, काला तिल, चमड़े का जूता, नमक, लोहा, अंगीठी,चाय पत्ती, चिमटा, तवा, काले कम्बल, खेती योग्य भूमि देनी चाहिए। शनि ग्रह की शांति के लिए दान देते समय ध्यान रखें कि संध्या काल हो और शनिवार का दिन हो तथा दान प्राप्त करने वाला व्यक्ति ग़रीब और वृद्ध हो।

ध्यान दे – कर्ज और उधार लेकर कभी दान न दें तथा जो व्यक्ति श्रम करने के योग्य होकर भी भीख मांगते हैं ऐसे लोगों को भूलकर भी दान नहीं देना चाहिए।

शनि ग्रह का व्रत

जब भी शनिवार का व्रत करना हो तो सर्वप्रथम किसी भी शुक्ल पक्ष के शनिवार से शुरू करें, सबसे शनिवार के दिन पहले स्नान आदि से निवृत होकर किसी गहरे नीले रंग के आसन पर पश्चिम दिशा की तरफ मुंह कर के बैठ जाए, अब ग्रह देव शनि का ध्यान करें उनका यंत्र सामने रख लें तो अति उत्तम, अब अपने दाहिने हाथ में शुद्ध जल ले लें और उनसे अपनी मनोकामना कहकर संकल्प करें कि हे ग्रह देव शनि मैं अपनी यह मनोकामना लेकर आप की इतने शनिवार का व्रत करने का संकल्प करता हूँ। आप मेंरे मनोरथ पूर्ण करें और मुझे आशीर्वाद दें, यह कह कर हाथ में लिया हुआ जल धरती पर गिरा दें, ऐसा संकल्प सिर्फ प्रथम शनिवार को करना है। तत्पश्चात श्रद्धा भाव से शनि देव का पंचोपचार पूजन करें व ऊपर लिखित किसी भी मंत्र का 1, 3, 5, 7, 9, 11 जितना भी संभव हो उतनी माला जप करें।

अगर घर के आस-पास भैरव मंदिर हो तो उस दिन जाकर भैरव देव का दर्शन कर के उनका आशीर्वाद लें।

नोट- जितना संकल्प किया था उतना व्रत पूर्ण होने पर व्रत का पारण करना चाहिए, किसी योग्य वृद्ध ब्राह्मण को घर पर बुलाकर भोजन करना चाहिए व शनि की वस्तु अपनी समर्थ अनुसार दान करनी चाहिए।

शनि ग्रह के कुंडली में शुभ होकर कमजोर होने पर

  • कुंडली में शुभ स्थिति में होने पर पंच धातु की अंगूठी में नीलम रत्न को सीधे हाथ की मध्यमा उंगली में धारण करने से शनि बलवान हो जाते हैं।
  • काले घोड़े की नाल या नाव के कांटे से बनी मुंदरी या छल्ला धारण करना भी लाभप्रद होता है।
  • आँखों में काला सुरमा लगाने से भी शनि बलवान होते हैं।
  • सरसों के तेल से 27 शनिवार शरीर की मालिश करवाने से भी शनि मजबूत हो जाते हैं।
  • स्टील अथवा लोहे का कड़ा या धारण करने से भी शनि को बल मिलता है।
  • अपने शयन कक्ष में नीले पर्दे, तकिये का कवर अथवा चद्दर डालने से भी शनि बलवान होते हैं ।
  • अगर संभव हो नीले-काले कपडे अधिक पहनना चाहिये नीली जींस भी शुभ होगी।
  • शनि का शुभ फल प्राप्त करने के लिए मांस मदिरा सेवन नहीं करना चाहिए, आलस्य का त्याग कर कर्म में तत्पर रहना चाहिए।
  • घर में संभव है तो काली गाय, काला कुत्ता अथवा भैस पालना चाहिए।
  • लोहे की कढाई में खाना बनाकर स्टील की थाली में खाना चाहिए ।
  • शनिवार के दिन काले उड़द की दाल अथवा खिचड़ी खाने से शनि को बल मिलता है ।
  • काले घोड़े की नाल अतवा पानी में चलने वली नाव के कांटे से बनी मुंदरी मध्यमा उंगली में धारण करने से भी शनि का शुभ फल मिलता है।
  • शनि के लिए काले गाय को अपने हाथ से घी से चुपड़ कर रोटी खिलाये अगर यह गाय किसी धार्मिक स्थल, मठ आदि में हो तो उत्तम।

शनि ग्रह के कुंडली में नीच अथवा अशुभ होने पर

  • लोहे के बर्तन में दही चावल और नमक मिलाकर भिखारियों और कौओं को देना चाहिए।
  • रोटी पर नमक और सरसों तेल लगाकर कौआ को देना चाहिए।
  • तिल और चावल पकाकर ब्राह्मण को खिलाना चाहिए।
  • अपने भोजन में से कौए के लिए एक हिस्सा निकालकर उसे दें।
  • शनि ग्रह से पीड़ित व्यक्ति के लिए हनुमान चालीसा का पाठ, महामृत्युंजय मंत्र का जाप एवं शनिस्तोत्रम का पाठ भी बहुत लाभदायक होता है।
  • शनि ग्रह के दुष्प्रभाव से बचाव हेतु गरीब, वृद्ध एवं कर्मचारियों के प्रति अच्छा व्यवहार रखें. मोर पंख धारण करने से भी शनि के दुष्प्रभाव में कमी आती है।
  • शनिवार के दिन पीपल वृक्ष की जड़ पर तिल्ली के तेल का दीपक जलाएँ।
  • शनिवार के दिन लोहे, चमड़े, लकड़ी की वस्तु एवं किसी भी प्रकार का तेल नहीं खरीदना चाहिए।
  • 7 बादाम, 7 नारियल, 7 दाने काले मसूर काले कपडे में बांधकर दूध के साथ बहते पानी में बहाने पर शनि की पीड़ा से लाभ प्राप्त होता है।
  • शनिवार के दिन तेल का सेवन नहीं करना चाहिए यह चाहे बदन में लगाने से हो या खाने से।
  • हर शनिवार को हनुमान मंदिर नंगे पांव जाना चाहिये व शनिवार को सरसों का तेल चढ़ाना चाहिए तथा तालाब में मछलियों को चारा भी डालना चाहिए।
  • शिव लिंग पर कच्चा दूध चढ़ाना चाहिए, तथा अपनी स्त्री के अलावा किसी भी पराई स्त्री से शारीरिक सम्बन्ध भूलकर भी नहीं बनाना चाहिए ।
  • अपने से निचे कार्य करने वाले को सम्मान दें, भिखारियों की कुछ न कुछ जरूर मदद करें, चमड़े से बनी चीजों का इस्तेमाल न करें, पैरो में काले जुते पहने तथा सफ़ेद जुराब का इस्तेमाल करें।

नोट- इनमें से कोई एक अथवा कई उपाय एक साथ श्रधा पूर्वक करना चाहिए।

इनके अलावा शनि ग्रह से संबंधित कैसी भी परेशानी हो तो निम्नलिखित स्तोत्र का नित्य पाठ करें अगर नित्य संभव न हो तो किसी भी शुक्ल पक्ष के शनिवार से प्रारम्भ कर के हर शनिवार को नियम पूर्वक इसका पाठ करें, महाराज दशरथ द्वारा रचित इस पाठ का बहुत ही महत्व है।

इसके लिए संध्या समय घर में किसी पवित्र स्थान पर बैठकर श्रद्धा भाव से शनि देव का पंचोपचार पूजन करें व ऊपर लिखित किसी भी मंत्र का 1 माला जप करें। फिर इस पवित्र स्तोत्र का पाठ करें।

दशरथकृत शनि स्तोत्र

नम: कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठ निभाय च।
नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय च वै नम:॥1॥
नमो निर्मांस देहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च।
नमो विशालनेत्राय शुष्कोदर भयाकृते॥ 2॥
नम: पुष्कलगात्राय स्थूलरोम्णेऽथ वै नम:।
नमो दीर्घाय शुष्काय कालदंष्ट्र नमोऽस्तु ते॥ 3॥
नमस्ते कोटराक्षाय दुर्नरीक्ष्याय वै नम:।
नमो घोराय रौद्राय भीषणाय कपालिने॥ 4॥
नमस्ते सर्वभक्षाय बलीमुख नमोऽस्तु ते।
सूर्यपुत्र नमस्तेऽस्तु भास्करेऽभयदाय च॥ 5॥
अधोदृष्टे: नमस्तेऽस्तु संवर्तक नमोऽस्तु ते।
नमो मन्दगते तुभ्यं निस्त्रिंशाय नमोऽस्तुते॥ 6॥
तपसा दग्ध-देहाय नित्यं योगरताय च।
नमो नित्यं क्षुधार्ताय अतृप्ताय च वै नम:॥ 7॥
ज्ञानचक्षुर्नमस्तेऽस्तु कश्यपात्मज-सूनवे।
तुष्टो ददासि वै राज्यं रुष्टो हरसि तत्क्षणात्॥ 8॥
देवासुरमनुष्याश्च सिद्ध-विद्याधरोरगा:।
त्वया विलोकिता: सर्वे नाशं यान्ति समूलत:॥ 9॥
प्रसाद कुरु मे सौरे ! वारदो भव भास्करे।
एवं स्तुतस्तदा सौरिर्ग्रहराजो महाबल:॥10॥
।।इति शुभम्।।

शनि देव की आरती

जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी।
सूर्य पुत्र प्रभु छाया महतारी ॥
श्याम अंग वक्र-दृ‍ष्टि चतुर्भुजा धारी।
नी लाम्बर धार नाथ गज की असवारी॥
क्रीट मुकुट शीश राजित दिपत है लिलारी।
मुक्तन की माला गले शोभित बलिहारी॥
मोदक मिष्ठान पान चढ़त हैं सुपारी।
लोहा तिल तेल उड़द महिषी अति प्यारी॥
देव दनुज ऋषि मुनि सुमिरत नर नारी।
विश्वनाथ धरत ध्यान शरण हैं तुम्हारी॥
जय जय श्री शनि देव भक्तन हितकारी।।

शनि देव की स्तुति

जय श्री शनिदेव रवि नन्दन,
जय कृष्णो सौरी जगवन्दन ।
पिंगल मन्द रौद्र यम नामा,
वप्र आदि कोणस्थ ललामा ।
वक्र दृष्टि पिप्पल तन साजा,
क्षण महं करत रंक क्षण राजा ।
ललत स्वर्ण पद करत निहाला,
हरहुं विपत्ति छाया के लाला ।

इस तरह आप शनि देव के मंत्र, व्रत और पूजा करके शनि ग्रह को प्रसन्न कर सकते है. कुंडली में दूसरे ग्रहों को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्र, व्रत और पूजा की जानकारी जानने के लिए हमारी ग्रह देव मंत्र एवं उपाय की सूची को देखिये

अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब करें, ज्योतिष, हिंदू त्योहार, देवी देवताओ की जानकारी और कई अन्य जानकारी के लिए। आप हमसे Facebook और Instagram पर भी जुड़ सकते है

अपनी जन्म कुंडली से जाने आपके 15 वर्ष का वर्षफल, ज्योतिष्य रत्न परामर्श, ग्रह दोष और उपाय, लग्न की संपूर्ण जानकारी, लाल किताब कुंडली के उपाय, और अन्य जानकारी, अपनी जन्म कुंडली बनाने के लिए यहां क्लिक करें।

नवग्रह के नग, नेचरल रुद्राक्ष की जानकारी के लिए आप हमारी साइट Gems For Everyone पर जा सकते हैं। सभी प्रकार के नवग्रह के नग – हिरा, माणिक, पन्ना, पुखराज, नीलम, मोती, लहसुनिया, गोमेद मिलते है। 1 से 14 मुखी नेचरल रुद्राक्ष मिलते है। सभी प्रकार के नवग्रह के नग और रुद्राक्ष बाजार से आधी दरों पर उपलब्ध है। सभी प्रकार के रत्न और रुद्राक्ष सर्टिफिकेट के साथ बेचे जाते हैं। रत्न और रुद्राक्ष की जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें
Default image
Gyanchand Bundiwal
Gemologist, Astrologer. Owner at Gems For Everyone and Koti Devi Devta.
Articles: 449

Leave a Reply

नए अपडेट पाने के लिए अपनी डिटेल्स शेयर करे

नैचरॅल सर्टिफाइड रुद्राक्ष कॉम्बो ऑफर

3, 4, 5, 6 और 7 मुखी केवल ₹800