इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें

बुध शांति के उपाय बुध ग्रह को वाणी, विद्या, धन, व्यवसाय और बुद्धि का प्रतीक माना जाता है। शुभ बुध ग्रह वाले व्यक्ति का व्यक्तित्व अत्यंत प्रभावशाली होता है। अगर बुध ग्रह किसी कारणवश रुष्ट हो जाते हैं तो इसका नुकसान जातक को भुगतना पड़ता है, जैसे धन की हानि, बुद्धि का भ्रमित होना और असाधारण रोग आदि। बुध की खराब स्थिति से त्वचा संबंधी विकार, शिक्षा में एकाग्रता की कमी, गणित विषय में कमजोरी और लेखन कार्य में परेशानी आती है। वहीं बुध के शुभ प्रभाव से जातक को बुद्धि, व्यापार, संचार और शिक्षा में उन्नति मिलती है।

अपनी जन्म कुंडली से जाने आपके 15 वर्ष का वर्षफल, ज्योतिष्य रत्न परामर्श, ग्रह दोष और उपाय, लग्न की संपूर्ण जानकारी, लाल किताब कुंडली के उपाय, और अन्य जानकारी, अपनी जन्म कुंडली बनाने के लिए यहां क्लिक करें।

बुध ग्रह से संबंधित कई उपाय हैं, जिन्हें करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। यदि आप बुध के अशुभ प्रभाव से पीड़ित हैं तो नीचे दिए गए उपाय अवश्य करें। यह सभी आजमाए हुए फलित उपाय है।

  1. अनिष्ट बुध की शांति का सर्वोत्तम उपाय बुध मंत्र के अनुष्ठान सहित नित्य विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना है।
  2. पुरुष सूक्त के द्वारा भगवान विष्णु की षोडशोपचार पूजा भी बुध कृत समस्त अरिस्टों को शांत करती है। संतान कष्ट, गर्भ दोष, वाणी दोष एवं मानसिक कष्ट दूर हो जाते हैं एवं सुख शांति में वृद्धि होती है।
  3. नित्य शालिग्राम पूजन करके तुलसी-पत्र का सेवन करें तथा बुधमंत्र का जाप करें, चमत्कारी लाभ होगा।
  4. बुध पीड़ा के कारण कलह, शत्रुता, हानि, मानसिक तनाव आदि से ग्रस्त जातक श्रीमद्भागवत गजेंद्र मोक्ष या रामरक्षास्त्रोत का पाठ करें, उन्हें अवश्य लाभ मिलेगा।
  5. बुध के कारण शत्रु बाधा एवं अभीचार कर्मों के शमन के लिए प्रत्यंगिरा जप तथा हवन अमोघ है।
  6. शिक्षा में बाधा एवं वाणी दोष के लिए वैदिक मार्ग प्रेमी सारस्वत मंत्र एवं तंत्र प्रेमी नील सरस्वती मंत्र का जप एवं अनुष्ठान करें, शीघ्र लाभ होगा।
  7. बुध को मजबूत करने एवं शारीरिक व्याधियों को दूर करने के लिए स्वर्ण युक्त पन्ना यंत्र अपने हाथ की सबसे छोटी कनिष्ठा अंगुली में धारण करें।
  8. बुधवार को इलायची एवं तुलसी का भक्षण करें तथा एक हरी इलायची बहते हुए जल में प्रवाहित करें।
  9. बुध स्थान को मजबूत करने एवं धन प्राप्ति हेतु पन्ना युक्त बुध यंत्र धारण करें।
  10. स्वर्ण का दान करें तथा 11 एकादशी व 11 बुधवार का व्रत रखें।
  11. ब्राह्मणों को प्रति बुधवार दूध का दान करें एवं मुट्ठी भर मूंग भिखारियों को दान करें।
  12. हरी चीजों का दान देना एवं उन्हें बहते हुए जल में प्रवाहित करना।
  13. गणपति जी का दर्शन एवं पूजन बुध शांति के लिए लाभकारी होता है।
  14. अपने घर के रेडियो, टेलीविजन, घड़ियां, गाने-बजाने के यंत्र ठीक रखें यदि वह बिगड़ी या खराब अवस्था में हों तो उन्हें घर पर न रखें।
  15. तांबे के पैसे में सुराख कर के बहते हुए पानी में बहाना।
  16. बकरी एवं तोते की सेवा करना एवं पन्ना धारण करना। पन्ना के अभाव में कली धातु धारण करें।
  17. लड़की, बहन, बुआ, साली की सेवा करना और आशीर्वाद लेना।
  18. कोड़ियों को जलाकर बहते हुए पानी में बहाना।
  19. हिजड़ों को हरी चूड़ियां, हरे रंग के कपड़े दान देना एवं उनसे आशीर्वाद लेना।
  20. भभूति, ताबीज, साधुओं की तस्वीर एवं धार्मिक ग्रंथ बंद करके न रखना।
  21. बुध पीड़ा की विशेष शांति हेतु चावल, शहद, सफेद सरसों, गोबर एवं गोरोचन मिलाकर सात बुधवार तक स्नान करना।
  22. हरिवंश पुराण के अनुसार अशुभ बुध से पीड़ित जातकों को महाविष्णु या अतिविष्णु यज्ञ कर कांस्य पात्र में दूध पीना चाहिए।

इस तरह आप बुध ग्रह की शांति के उपाय करके बुध ग्रह की शांति कर सकते है. कुंडली में दूसरे ग्रहों की शांति के उपाय जानने के लिए हमारी ग्रहों की शांति के उपाय की सूची को देखिये

आप हमसे हमारे सोशल मीडिया पर भी जुड़ सकते है।
Facebook – @kotidevidevta
Youtube – @kotidevidevta
Instagram – @kotidevidevta
Twitter – @kotidevidevta

नवग्रह के रत्न और रुद्राक्ष से जुड़े सवाल पूछने के लिए हमसे संपर्क करें यहाँ क्लिक करें

अपनी जन्म कुंडली से जाने आपके 15 वर्ष का वर्षफल, ज्योतिष्य रत्न परामर्श, ग्रह दोष और उपाय, लग्न की संपूर्ण जानकारी, लाल किताब कुंडली के उपाय, और अन्य जानकारी, अपनी जन्म कुंडली बनाने के लिए यहां क्लिक करें।

नवग्रह के नग, नेचरल रुद्राक्ष की जानकारी के लिए आप हमारी साइट Gems For Everyone पर जा सकते हैं। सभी प्रकार के नवग्रह के नग – हिरा, माणिक, पन्ना, पुखराज, नीलम, मोती, लहसुनिया, गोमेद मिलते है। 1 से 14 मुखी नेचरल रुद्राक्ष मिलते है। सभी प्रकार के नवग्रह के नग और रुद्राक्ष बाजार से आधी दरों पर उपलब्ध है। सभी प्रकार के रत्न और रुद्राक्ष सर्टिफिकेट के साथ बेचे जाते हैं। रत्न और रुद्राक्ष की जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें
Gyanchand Bundiwal
Gyanchand Bundiwal

Gemologist, Astrologer. Owner at Gems For Everyone and Koti Devi Devta.

Articles: 472