जय श्री महाकाल

इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें

यदि आप शिव उपासक हे तो अपनी सारी मुसीबतों का सहज ओर आसान निवारण आज शाम  शिव पूजन से जरूर करे
शुभ दिन जय हो .
” विभिन्न धाराओं से करें भगवान शिव को प्रसन्न “

शिवलिंग भगवान शंकर का ऐसा मंगलयमय रुप है जिसके अभिषेक से मनुष्यों के करोड़ो जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं. पुराणों में शिवलिंग पर अलग- अलग जलधाराओं व फ़ूलों से शिव पूजन का अलग – अलग महत्व बताया गया है. शास्त्रों के अनुसार इन धाराओं को अर्पित करते समय शिव मन्त्रों जैसे- महामृत्युंजय मंत्र, शिव गायत्री मंत्र, रुद्र मंत्र, षडाक्षरी मंत्र व शिव सहस्त्रनामों का उच्चारण करते रहना चाहिए. इस तरह अभिषेक करने से सभी मनोरथों की पूर्ति व संकटों से मुक्ति मिलती है.
– भगवान शंकर को गंगाजल की धारा बहुत प्रिय है. इसलिए उन्हे गंगाधर भी कहा जाता है. गंगाजल द्वारा अभिषेक करने से भोग और मोक्ष दोनों की ही प्राप्ति होती है.
– मन की शान्ति के लिए शिवलिंग पर जल धारा से अभिषेक करें.
– भौतिक सुख-साधनों की प्राप्ति के लिए सुगन्धित तेल की धारा से शिवलिंग का अभिषेक करें.
– शिवलिंग पर गन्ने के रस की धार चढायी जाये तो भी सम्पूर्ण आनन्द की प्राप्ति होती है.
– अच्छे स्वास्थ्य के लिए व रोग मुक्त होने के लिए शहद की धारा से भगवान शिव का अभिषेक करें.
– संतान प्राप्ति व वंश वृद्धि के लिए शिव सहस्त्रनामों का उच्चारण करते हुए घी की धारा अर्पित करें.
– धन सम्पदा की प्राप्ति के लिए कमल, बिल्व पत्र, शतपत्र और शंखपुष्प से भगवान शिव का पूजन करें.
– यदि अल्पायु का भय हो तो उसे एक लाख दुर्वाओं के द्वारा भगवान शिव का पूजन करना चाहिए.
– पुत्र की कामना हेतु लाल डंठल वाले एक लाख धतूरे के फ़ूलों से पूजा करनी चाहिए.
– मान प्रतिष्ठा यश की प्राप्ति हेतु एक लाख अगस्त्य के फ़ूलों से पूजन करना चाहिए.
– वाहन सुख के लिए चमेली पुष्प से भगवान शिव की पूजा करें.
– जूही के फ़ूलों से भगवान शंकर का पूजन करने से अन्न की कभी कमी नही आती.
– करनेर के फ़ूलों द्वारा पूजन करने से सुन्दर वस्त्रों की प्राप्ति होती है.
– सुख-सम्पत्ति की प्राप्ति के लिए सिंगार के फ़ूलों से पूजन करना चाहिए.

अब ज्योतिष के माध्यम से भी जाने शिव जी के अभिषेक से प्रभाव :

विविध राशि के जातक निर्देश अनुसार भिन्न भिन्न द्र्व्यो से अभिषेक करे तो ग्रहो के अशुभ प्रभाव शांत होकर परम शिव कृपा की प्राप्ति कितनी सहज

मेष राशि : शहद ,गुड ,गन्नेका रस ओर लाल फूल अर्पित करे
वृषभ राशि :गाय का क्च्चा दूध ,दहि ओर सफेद रंग के खुशबू वाले फूल अर्पित करे
मिथुन राशि :हरेरंग के फलो का रस ,मूंग ओर बेलपत्र अर्पित करे
कर्क राशि : गाय का कच्चा दूध ,मक्खन ,मूंग ,बेलपत्र अर्पित करे
सिह राशि : शहद ,गुड ,गाय का घी ओर खुशबू वाले लाल फूल अर्पित करे
कन्या राशि :हरेरंग के फलो का रस , बेलपत्र ,मूंगा ओर हरे रंग के फूल अर्पित करे
तुला राशि: गाय का कच्चा दूध , दहि ,मक्खन ,घी ओर गंगाजल अर्पित करे
वृचिक राशि : शहद ,गाय का शुद्ध घी ,गुड ,बेलपत्र ,गंगाजल ओर ललरंग के खुशबू वाले फूल
धन राशि : गाय का शुद्ध घी ,बदाम ,पीले रंग के फलो का रस , गंगाजल ओर पीले रंग के खुशबू वाले फूल
मकर राशि : आर्सो का तेल ,तिल का तेल , गाय का कच्चा दूध ,नीले रन के फूल ओर जाबून अर्पित करे
कुंभ राशि :गाय का कचा दूध ,सारसो का तेल ,तिल का तेल ,गंगाजल ओर नीले रंग के फूल अर्पित करे
मीन राशि :गन्ने का रस ,शहद ,बदाम ,बेल पत्ता ,पीले रंग के फल ओर खुशबू वाले पीले फूल अर्पित करे

सभी राशि के जातक गंगजाल ओर गाय के कच्चे दूध का अभिषेक करसकते हे ज्यादा समाजने की ज़रूरत नहीं बस “ॐ नमः शिवाय ” इस मंत्र को रटते ये द्रावी शिवजी को स्वयं आरपीत करे …
इससे न केवल शिव की कृपा होती है बल्कि भक्तों पर माता गौरी, गणेश व माता लक्ष्मी की भी कृपा प्राप्ति होती है.

इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें
Default image
Gyanchand Bundiwal

Gemologist, Astrologer. Owner at Gems For Everyone and Koti Devi Devta.

Articles: 467