अन्नपूर्णा देवी की आरती

इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें

बारम्बार प्रणाम मैया बारम्बार प्रणाम

जो नहीं ध्यावै तुम्हें अम्बिके, कहाँ उसे विश्राम ।

अन्नपूर्णा देवी नाम तिहारो, लेते होत सब काम ।।

प्रलय युगांतर और जन्मांतर, कालांतर तक नाम ।

सुर सुरों की रचना करती, कहाँ कृष्ण कहाँ राम ।।

चूमहि चरण चतुर चतुरानन, चारु चक्रधर श्याम ।

चंद्र चुड चंद्रानन चाकर, शोभा लखहि ललाम ।।

देवी देव दयनीय दशा में, दया दया तव नाम ।

त्राहि त्राहि शारणगत वत्सल, शरण रुप तव धाम ।।

श्री, ह्रीं, श्रद्धा, श्रीं ऐं विद्या, श्री क्लीं कमल काम ।

कान्तिभ्रांतिमयी कांति शातिमयी वर देतुनिष्काम ।।

इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें
Default image
Gyanchand Bundiwal
Gemologist, Astrologer. Owner at Gems For Everyone and Koti Devi Devta.
Articles: 449

Leave a Reply

नए अपडेट पाने के लिए अपनी डिटेल्स शेयर करे

नैचरॅल सर्टिफाइड रुद्राक्ष कॉम्बो ऑफर

3, 4, 5, 6 और 7 मुखी केवल ₹800